Sunday, 8 November 2015

(२) - गौ - चिकित्सा ,दूध बढ़ाने के लिए ।

(२) - गौ - चिकित्सा ,दूध बढ़ाने के लिए ।

१ - रोग - दूधारू गाय व भैंस का दूध बढ़ाने के उपाय ।
=====================================

औषधि - २०० से ३०० ग्राम सरसों का तेल , २५० ग्राम गेहूँ का आटा लेकर दोनों को आपस में मिलाकर सायं के समय पशु को चारा व पानी खाने के बाद खिलायें इसके बाद पानी नहीं देना है ओर यह दवाई भी पानी के साथ नहीं देनी है। अन्यथा पशु को खाँसी हो सकती है । पशु को हरा चारा व बिनौला आदि जो खुराक देते है वह देते रहना चाहिए ।७-८ दिनों तक खिलाए फिर दवा बन्द कर देनी चाहिए ।


२ - गाय- भैंस का दुग्धवर्धक सरल योग
==================================

१ - औषधि - पके ताड़ का माण्ड तैयार करके गाय- भैंस को पिलाने से दूध की बढ़ोतरी होती हैं ।

२ - औषधि - थोड़ी-थोड़ी मात्रा मे गुरूच देते रहने से दूध की मात्रा मे वृद्धि तो हो ही जाती हैं , साथ ही दूध मे साथ ही दूध मे दुर्गन्ध भी पैदा नही होती हैं ( नोट - यह भी ध्यान रहे कि यदि गुरूच की अधिक मात्रा मे सेवन कराते है तो दूध मे गन्ध हो जायेगी ।)

३ - औषधि - गाय भैंस का दूध बढ़ाने के लिए महुआ खिलाना उत्तम उपाय माना जाता हैं ।

४ - औषधि - मोथा को आग पर अच्छी तरह पकाकर खिलाने से भी गाय , भैंस के दूध की मात्रा बढ़ जाती हैं ।

५ - औषधि - प्रसवोपरान्त ( १ महीने के बाद से ) यदि दोपहर के समय पुराने गुड का शर्बत तैयार करके दूधारू गाय को दिया जाता रहे तो उसके दूध की मात्रा बढ़ जाती हैं ।

६ - औषधि - हरी चौलाई , चावल की खुद्दी , लौवा- उड़द इन तानो को मन्दी आँच पर पकाकर ठन्डा करके पशु को खिलाते रहे तो उनके दूध की मात्रा तो बढ़ेगी ही साथ ही पशु का स्वास्थ्य भी सुधर जायेगा ।


Sent from my iPad